Anupama 4th August 2020 Writing update | Today episode

Anupama

Anupama 4th August 2020 Writing update | Today episode

Anupama 4th August 2020 Writing update में आपको दिखाया जाएगा कि जब अनुपमा को मनराज कहता है कि तुम्हारे ऊपर ही यह सूट करता है कि कोई काम ढंग से ना करना तभी अनुपमा कहती है कि इस बार मेरी कोई गलती नहीं है। और वह कहने लगती है कि क्या कोई कभी फेल नहीं हुआ है वह अपनी बेटी पाखी को कहती है कि क्या तुम कभी फेल नहीं हुई हो फिर मेरा फेल होना गलत क्यों।

जब आप लोगों के साथ होता है वह सही जो मेरे साथ होता है वह गलत ऐसा क्यों और मैं इसमें भी पास हो जाती है अगर मेरी फैमिली मेरा साथ देते तभी मनराज कहता है कि इसका मतलब यह है कि तुम मुझे ब्लेम कर रही हो कि तुम्हारी नौकरी मेरी वजह से गई है।तो वह कहती है कि नहीं मैं ऐसा कुछ नहीं कह रही हूं। कभी वह अपने बच्चों से कहती है कि जब मैंने मां का फर्ज निभाया बहू का फर्ज पत्नी का फर्ज निभाया तब तो मेरी पढ़ाई बीच में नहीं आई लेकिन आज अचानक मेरी पढ़ाई बीच में क्यों आ गई।

Anupama 4th August 2020 Writing update | Today episode

Advertisement

तभी अनुपमा कहती है कि ऐसा नहीं है कि मैं पढ़ना नहीं चाहती थी मेरी शादी छोटी उम्र में हो गई थी क्योंकि मेरे बाबूजीगुजर गए थे और सब कुछ मां के ऊपर आ गया था इसीलिए जब उन्होंने रिश्ता किया था तो उन्होंने सासू मां से वचन भी लिया था कि वह आगे अनुपमा को पढ़ाएंगे।

Anupama 4th August 2020 Writing update | Today episode

लेकिन जब शादी हुई तो पहले तोशी आया फिर समर और फिर पाकी रिश्तो की उस दिनों में मैं इतना बिजी गई थी पढ़ने का कोई मौका ही नहीं मिला और वह कहती है कि लेकिन मैं इन सब से दुखी नहीं हूं क्योंकि मेरी पढ़ाई से ज्यादा मेरे बच्चों की परवरिश है।

Advertisement

तभी अनुपमा तो उसी से कहती है कि मैं नौकरी में भले ही फेल हो गई हूं लेकिन एक मां की नौकरी से मैं फेल नहीं हो सकती और तुमने क्या किया जब किंजल के घर वाले तुम्हें देखने आ रहे थे तुमने मुझे नहीं बताया काव्या को बताया और बाकी तुमने क्या फन फेयर में मेरी जगह काव्या को दी ऐसा मैं कैसे होने दे सकते हो मैं अपने मां होने का हक किसी को नहीं दूंगी और ना ही किसी को छीनने दूंगी यह सुनकर काव्या गुस्से में आ जाती है।

तभी अनुपमा उसी से कहती है कि तुम्हारे रिश्ते के बारे में मैं किंजल के घर वालों से बात करेंगी कोई बाहर वाला नहीं जयशंकर मनराज को भी गुस्सा आ जाता है।

अभी आप देखते हैं कि सभी लोग अपने अपने रुम में चले जाते हैं जब अनुपमा अपने रूम में जाती है तो तब मनराज काव्य को फोन कर रहा होता है तभी वहां पर अनुपमा जाती है तभी मैं अमन राज क्लैपिंग करने लगता है और वह कहता है कि मुझे माफ कर दो मैंने वहां पर क्लैपिंग नहीं की तुम कितने अच्छे डायलॉग मार लेती हो तो आगे सेंड मत कर दी मैंने कोई डायलॉग नहीं मारा मैंने जो है वह कहां है। तभी मनराजअनुपमा से कहता है कि आज तुमने कहा गया के सामने सारी फैमिली का मजाक बनाकर रख दिया काव्या जो हमारे लिए आई थी तुमने उसको भी नहीं छोड़ा मैं तो हमारी मदद ही करना चाहती थी इस राह देखते कि मैं नाराज अनुपमा को बहुत पुरानी लगता है और मैं उसे कहता है कि तुम अभी भी सुधर जाओ वरना अब तो तुम्हारी नौकरी गई है कहीं तुम रिश्तो से भी अपना हाथ ना वो बैठो। तभी अनुपमा बहुत दुखी हो जाती है।

इस राह देखते हैं कि अनुपमा बाहर है आती है तभी उसके भाई का फोन आ जाता है और वह कहता है कि दीदी कल राखी आप भूल तो नहीं गई है तभी यह सुनकर वह रोने लगती है तभी उसका भाई पूछता है कि आप रोने क्यों लगी तभी वहां पर उसकी मां आती है और वह कहती है कि मेरी बात अनुपमा से कराओ तब उसकी मां बात करती है तो उसे पूछते हैं कि बेटा क्या हुआ तुम इतनी दुखी क्यों हो तभी अनुपमा कहती है कि मैं घर वालों को जितना भी खुश रखने की कोशिश की लेकिन मेरे से कोई गलती हो ही जाती है ।

तभी उसकी मां कहती है कि तुम्हारी कोई गलती नहीं है देखने वालों की नजर में फर्क होता है जब इनको नजर ठीक हो गई तो वह तुम्हें ठीक समझेंगे तभी कहती है कि क्या ऐसा हो सकता है तभी उसकी मां कहती है कि कल राखी का तोहार और कान्हा जी ने चाहा तो कल सब कुछ ठीक हो होगा।

तभी आप देखते हैं कि अनुपमा कान्हा जी के सामने जाती और वह कहती है कि कान्हा जी का तोहार का दिन है आप अपनी कृपा हमारे परिवार पर बनाए रखना और कल का दिन सभी के लिए अच्छा और सभी के चेहरे पर मुस्कान हो।

अभी आप देखते हुए जाओ सुबह होती है तो वह अनुपमा के साथ सभी के लिए राखियां मंदिर में रखती है और वहां से उठाती है और सभी को दे देती है।

दूसरी तरफ आप देखते हैं कि मनराज काव्या को बार-बार फोन कर रहा होता है और वह फोन नहीं उठा रही होती कुछ देर बाद में फोन उठाती होतभी मैंने तो आज कार्य से कहता है कि तुम फोन क्यों नहीं उठा रही हो मैंने कितनी मिस कॉल कि मैसेज किया लेकिन तुमने कोई जवाब नहीं दिया तुम्हारा फोन भी स्विच ऑफ आ रहा था तब और मनराज कहता है कि और आप आज मिल भी नहीं पाएंगे क्योंकि आज रात राखी का त्यौहार है मुझे अपनी फैमिली वालों के साथ रहना है तभी काव्या कहती है कि राखी का त्यौहार राखी बांधकर तुम सारा दिन क्या करोगे तो आगे से मनराज कहता है कि मेरा त्यौहार के दिन घर रहना ही ठीक होगा मुझे अपनी फैमिली के साथ भी टाइम सेंड करना चाहिए।तभी कहां गया कहती है कि तुम रहो अपनी फैमिली के साथ तभी आप देखते हैं कि मनराज को उसकी मां बुलाती है और वह कामयाबी यह आवाज सुन लेती है और वह मंडल से कहती है तुम जाओ तुम्हारी फैमिली वाले तुम्हें बुला रहे हैं काव्या यह सब कुछ गुस्से में कह रही होती है तभी आप देखते हैं कि मैं नाराज़ फोन काट के वहां से चला जाता है। पर मैं अपना फोन चार्जिंग पर लगा जाता है।

Good Morning wishes Photos Shayari

Read Also

तभी आप देते हैं कि जब मैं डर आज बाहर आ रहा था है तो तभी अनुपमा मंदिर की सजावट कर रही होती है और मनराज ही है सब कुछ देख रहा होता है कभी उधर से समर आता है और उसके पापा उसे बुलाते हैं । मैं उसे कहते हैं कि आज तोहार वाले दिन तुमने कैसी शर्ट डाली हुई है जाओ तुम मेरा यालो वाला कुर्ता डालो यह सुनकर समर बहुत खुश हो जाता है कि पापा ने आज मुझे अपना फेवरेट कुर्ता दिया है।

तभी उसके पापा उसे कुछ पैसे भी देते हैं कि तुम पाखी के लिए कुछ गिफ्ट ले लेना तभी समझ गए थे कि मैंने पाखी के लिए पहले ही गिफ्ट ले लिया है तभी उसके पापा कहते हैं कि यह तुम उसे शगुन के तौर पर दे देना तो क्या यह पैसे उसे दे देता है और वहां से चला जाता है तभी अपने पापा का इतना अच्छा व्यवहार देखकर बहुत खुश हो जाता है।तभी समर की मां उसे कहती है कि जाओ समर तुम मुझे बाजार से कुछ सामान आकर दो तभी वह कहता है कि आप तो उसी से कह दीजिए तभी वह कहती है कि वह तो किंजल के साथ बातें कर रहा है ।तो समर हंसने लगता है तभी अनुपमा उसे कहती है कि जब तुम्हारी बारी आएगी तुम भी ऐसे ही बातें करोगे।

दूसरी तरफ देखते हैं कि काव्या मनराज के अपनी फैमिली वालों के साथ होने से बहुत दुखी होती है और वह कहती है कि आज तो तुम मुझे हर्ट कर लो जितना करना है कल जब एक पर्सन को मैं बुला रही हूं जब तुम उसे देखोगे और उसके बारे में मैं जब तुम्हें बताऊंगी तो मैं देखूंगी कि तुम कितना हॉट होते हो। सर आज का एपिसोड यहां है खत्म।

Anupama 5th August 2020 Writing update

कल के एपिसोड में आपको दिखाया जाएगा कि जब सामान लेने के लिए समर बाजार जाता है तो वहां पर

किसी से बातें कर रहा होता है कि पहले तो लड़कियां हाथों में राखी लेकर बाजारों में घूमती थी कि किसी भी आते-जाते को राखी बांधती थी तभी आप देखते हैं कि वहां से एक लड़की आती है और उसके हाथ में राखी होती है और वे उसे घुमा रही होती है जब समर उसे देखता है तो उसे देखता ही रह जाता है। इस तरह यह सब कुछ आपको कल के एपिसोड में दिखाया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *